Physics Airforce X Group Navy SSR AA Questions | 02 April 2020

general science questions for defence exams preparation

Physics Airforce is an important subject in various exams like Airforce X Group, Indian Navy AA & Navy SSR, NDA, CDS and other Defence Exams. Here at DefencePrep we provide you with the quizzes based on the syllabus and pattern of these exams.

Physics Airforce  Questions 

Time limit: 0

Quiz-summary

0 of 10 questions completed

Questions:

  1. 1
  2. 2
  3. 3
  4. 4
  5. 5
  6. 6
  7. 7
  8. 8
  9. 9
  10. 10

Information

Click on Start Button to start your Quiz.

You have already completed the quiz before. Hence you can not start it again.

Quiz is loading...

You must sign in or sign up to start the quiz.

You have to finish following quiz, to start this quiz:

Results

0 of 10 questions answered correctly

Your time:

Time has elapsed

You have reached 0 of 0 points, (0)

Average score
 
 
Your score
 
 

Categories

  1. Not categorized 0%
  • Thankyou for taking the Test.

maximum of 10 points
Pos. Name Entered on Points Result
Table is loading
No data available
Your result has been entered into leaderboard
Loading
  1. 1
  2. 2
  3. 3
  4. 4
  5. 5
  6. 6
  7. 7
  8. 8
  9. 9
  10. 10
  1. Answered
  2. Review
  1. Question 1 of 10
    1. Question

    Suppose the masses are a body of two particles m1 and m2. If mass m1 is pushed towards the mass center of the body by a distance d, then how far will mass m2 have to be displaced, leaving the mass center of the body of the particles intact?
    माना द्रव्य्मानो m1 तथा m2 के दो कणों का एक निकाय है | यदि द्रव्यमान m1 को निकाय के द्रव्यमान केंद्र की ओर d दूरी तक धकेला जाता है, तो द्रव्यमान m2 को कितनी दूरी तक विस्थापित करना पड़ेगा, जिससे कणों के निकाय का द्रव्यमान केंद्र पूर्ववत रहे

    Correct

    Incorrect

  2. Question 2 of 10
    2. Question

    What is the dimensional formula of energy per unit volume?
    प्रति इकाई आयतन में ऊर्जा का आयामी सूत्र क्या है?

    Correct

    Energy per unit volume is called as energy density.

    Dimensional formula of Energy = ML2T -2

    Dimensional formula of volume = L3

    The dimensional formula of energy per unit volume is given as

    $=\frac { M{ L }^{ 2 }{ T }^{ -2 } }{ { L }^{ 3 } } =M{ L }^{ -1 }{ T }^{ -2 }$

    where M, L and T are mass, length and time respectively.

    ऊर्जा का प्रति इकाई आयतन ही ऊर्जा का घनत्व कहलाता है।

    ऊर्जा का आयामी सूत्र = ML2T -2

    आयतन का आयामी सूत्र = L3

    $=\frac { M{ L }^{ 2 }{ T }^{ -2 } }{ { L }^{ 3 } } =M{ L }^{ -1 }{ T }^{ -2 }$

    प्रति इकाई आयतन में ऊर्जा का आयामी सूत्र निम्न रूप में दिया गया है।

    Incorrect

    Energy per unit volume is called as energy density.

    Dimensional formula of Energy = ML2T -2

    Dimensional formula of volume = L3

    The dimensional formula of energy per unit volume is given as

    $=\frac { M{ L }^{ 2 }{ T }^{ -2 } }{ { L }^{ 3 } } =M{ L }^{ -1 }{ T }^{ -2 }$

    where M, L and T are mass, length and time respectively.

    ऊर्जा का प्रति इकाई आयतन ही ऊर्जा का घनत्व कहलाता है।

    ऊर्जा का आयामी सूत्र = ML2T -2

    आयतन का आयामी सूत्र = L3

    $=\frac { M{ L }^{ 2 }{ T }^{ -2 } }{ { L }^{ 3 } } =M{ L }^{ -1 }{ T }^{ -2 }$

    प्रति इकाई आयतन में ऊर्जा का आयामी सूत्र निम्न रूप में दिया गया है।

  3. Question 3 of 10
    3. Question

    The angular momentum of a system of n particles about the origin is_____

    Where pi is momentum, ri is the position vector of the particle, fi is the force and ωi is the angular velocity

    केंद्र के संबंध में n कणों वाले निकाय का कोणीय संवेग_____ है,

    जहाँ pi संवेग है, ri कण की स्थिति की सदिश राशि, fi बल और ωi कोणीय वेग है

    Correct

    The angular momentum of a system can be given by cross product of momentum and distance from origin.

    To get angular momentum of a system of particles, we can add it for all the particles.

    Hence, the angular momentum of n particles about the origin is $L = \mathop \sum \limits_{i\; = \;1}^n {r_i} \times \;{p_i}$

    where pi is momentum, ri is the position vector of the particle with respect to the fixed point of origin.

    एक निकाय के कोणीय संवेग को इसके वेग और केंद्र से इसकी दूरी के अन्योन्य गुणन से ज्ञात किया जा सकता है।

    कणों के एक निकाय का कोणीय संवेग प्राप्त करने के लिए, हम सभी कणों के लिए इसे जोड़ सकते हैं।

    अतः केंद्र के संबंध में n कणों वाले निकाय का कोणीय संवेग $L = \mathop \sum \limits_{i\; = \;1}^n {r_i} \times \;{p_i}$ है।

    जहाँ pi संवेग, ri केंद्र के स्थिर बिंदु के संबंध में कण के स्थान की सदिश राशि है।

    Incorrect

    The angular momentum of a system can be given by cross product of momentum and distance from origin.

    To get angular momentum of a system of particles, we can add it for all the particles.

    Hence, the angular momentum of n particles about the origin is $L = \mathop \sum \limits_{i\; = \;1}^n {r_i} \times \;{p_i}$

    where pi is momentum, ri is the position vector of the particle with respect to the fixed point of origin.

    एक निकाय के कोणीय संवेग को इसके वेग और केंद्र से इसकी दूरी के अन्योन्य गुणन से ज्ञात किया जा सकता है।

    कणों के एक निकाय का कोणीय संवेग प्राप्त करने के लिए, हम सभी कणों के लिए इसे जोड़ सकते हैं।

    अतः केंद्र के संबंध में n कणों वाले निकाय का कोणीय संवेग $L = \mathop \sum \limits_{i\; = \;1}^n {r_i} \times \;{p_i}$ है।

    जहाँ pi संवेग, ri केंद्र के स्थिर बिंदु के संबंध में कण के स्थान की सदिश राशि है।

  4. Question 4 of 10
    4. Question

    What is the moment of inertia of a rod of mass M, length l about an axis perpendicular to it through one end?
    भार M, लम्बाई l वाले एक रॉड के एक छोर से लंब एक अक्ष के संबंध में इसका जड़त्वाघूर्ण क्या है?

    Correct

    For the rod of mass M and length l,

    Moment of inertia, I = Ml2/12 (about an axis perpendicular to it through centre).

    Using the parallel axes theorem,

    $I’ = I + M{a^2}\;\;with\,\,\;a = \frac{l}{2}\;$

    Since length of the rod is l, the distance from centre of a rod to one end of the rod is

    We get, $I’ = M\frac{{{l^2}}}{{12}} + M{\left( {\frac{l}{2}} \right)^2} = \frac{{M{l^2}}}{3}$

    भार M, लम्बाई l वाले एक रॉड के लिए,

    जड़त्वाधूर्ण, I = Ml2/12 (इसके केन्द्र से लंब एक अक्ष के संबंध में)

    समानांतर अक्ष के प्रमेय का उपयोग करने पर,

    $I’ = I + M{a^2}\;\;with\,\,\;a = \frac{l}{2}\;$

    चूँकि रॉड की लम्बाई l, रॉड के केन्द्र से रॉड के अंतिम छोर तक दूरी है।

    हम पाते हैं कि $I’ = M\frac{{{l^2}}}{{12}} + M{\left( {\frac{l}{2}} \right)^2} = \frac{{M{l^2}}}{3}$

    Incorrect

    For the rod of mass M and length l,

    Moment of inertia, I = Ml2/12 (about an axis perpendicular to it through centre).

    Using the parallel axes theorem,

    $I’ = I + M{a^2}\;\;with\,\,\;a = \frac{l}{2}\;$

    Since length of the rod is l, the distance from centre of a rod to one end of the rod is

    We get, $I’ = M\frac{{{l^2}}}{{12}} + M{\left( {\frac{l}{2}} \right)^2} = \frac{{M{l^2}}}{3}$

    भार M, लम्बाई l वाले एक रॉड के लिए,

    जड़त्वाधूर्ण, I = Ml2/12 (इसके केन्द्र से लंब एक अक्ष के संबंध में)

    समानांतर अक्ष के प्रमेय का उपयोग करने पर,

    $I’ = I + M{a^2}\;\;with\,\,\;a = \frac{l}{2}\;$

    चूँकि रॉड की लम्बाई l, रॉड के केन्द्र से रॉड के अंतिम छोर तक दूरी है।

    हम पाते हैं कि $I’ = M\frac{{{l^2}}}{{12}} + M{\left( {\frac{l}{2}} \right)^2} = \frac{{M{l^2}}}{3}$

  5. Question 5 of 10
    5. Question

    The law states that the line joins any planet to the sun sweeps equal areas in equal intervals of time are:
    कौन सा नियम दर्शाता है कि सूरज से किसी भी ग्रह को जोड़ने वाली एक रेखा समय के समान अंतरालों में समान क्षेत्र का चक्कर लगाती है?

    Correct

    We know that, T2 is directly proportional to r3.

    So we can conclude that, in equal intervals of time r will be constant.

    Hence, the line joins any planet to the sun sweeps equal areas in equal intervals of time are law of areas. This law also states that planets appear to move slower when they are farther from the sun than when they are nearer. This is known as Kepler’s law of area.

    हम जानते हैं कि, T2, r3 के समानुपाती है।

    इसलिए हम कह सकते है कि समय के समान अंतरालों में r नियतांक होगा।

    इसलिए सूरज और किसी भी ग्रह को जोड़ने वाली एक रेखा समय के समान अंतरालों में समान क्षेत्र का चक्कर लगाती है इस सिद्धांत को क्षेत्रफल का सिद्धांत कहा जाता है। यह सिद्धांत यह भी दर्शाता है कि जब ग्रह सूरज से बहुत दूर होते हैं तो उनकी गति जब वे निकट होते हैं तो उस समय की गति से कम प्रतीत होती है। यह केप्लर के क्षेत्रफल के सिद्धांत के नाम से जाना जाता है।

    Incorrect

    We know that, T2 is directly proportional to r3.

    So we can conclude that, in equal intervals of time r will be constant.

    Hence, the line joins any planet to the sun sweeps equal areas in equal intervals of time are law of areas. This law also states that planets appear to move slower when they are farther from the sun than when they are nearer. This is known as Kepler’s law of area.

    हम जानते हैं कि, T2, r3 के समानुपाती है।

    इसलिए हम कह सकते है कि समय के समान अंतरालों में r नियतांक होगा।

    इसलिए सूरज और किसी भी ग्रह को जोड़ने वाली एक रेखा समय के समान अंतरालों में समान क्षेत्र का चक्कर लगाती है इस सिद्धांत को क्षेत्रफल का सिद्धांत कहा जाता है। यह सिद्धांत यह भी दर्शाता है कि जब ग्रह सूरज से बहुत दूर होते हैं तो उनकी गति जब वे निकट होते हैं तो उस समय की गति से कम प्रतीत होती है। यह केप्लर के क्षेत्रफल के सिद्धांत के नाम से जाना जाता है।

  6. Question 6 of 10
    6. Question

    An object is subjected to two types of Simple Harmonic Motion.

    ${x_1}\left( t \right) = 3\sin 2t$
    ${x_2}\left( t \right) = 4\sin \left( {2t + \frac{\pi }{6}} \right)$

    Find the maximum acceleration of the resulting S.H.M.

    एक वस्तु को दो प्रकार के साधारण हरात्मक गति से चलाई जाती है।

    ${x_1}\left( t \right) = 3\sin 2t$
    ${x_2}\left( t \right) = 4\sin \left( {2t + \frac{\pi }{6}} \right)$

    एस.एच.एम के त्वरण का अधिकतम परिणाम ज्ञात कीजिए।

    Correct

    Maximum acceleration of the resulting S.H.M. is
    ${a_{max}} = A{\omega ^2} = {\left( 2 \right)^2}\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$

    Where $\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$ is the Amplitude of resultant motion, when the resultant of the two motions is S.H.M with same angular frequency.
    ${A_1} = 3,\;{A_2} = 4$
    ${a_{max}} = {\left( 2 \right)^2}\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$
    $= \left( 4 \right) \times \sqrt {{3^2} + {4^2} + 2\left( 3 \right)\left( 4 \right)\cos \left( {\frac{\pi }{6}} \right)} = 4 \times \sqrt {9 + 16 + 24 \times \frac{{\sqrt 3 }}{2}}$
    $= 4 \times \sqrt {25 + 12\sqrt 3 } = 4 \times \sqrt {45.78} = 27.08\;m{s^{ – 2}}$
    Therefore, Maximum acceleration of the resulting S.H.M. is 27.08 ms -2.

    एस.एच.एम के त्वरण का अधिकतम परिणाम:
    ${a_{max}} = A{\omega ^2} = {\left( 2 \right)^2}\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$

    जब दो गति का परिणाम समान कोणीय आवृति वाला एस.एच.एम है तो $\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$ परिणामी गति का शीर्ष है,
    ${A_1} = 3,\;{A_2} = 4$
    ${a_{max}} = {\left( 2 \right)^2}\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$
    $= \left( 4 \right) \times \sqrt {{3^2} + {4^2} + 2\left( 3 \right)\left( 4 \right)\cos \left( {\frac{\pi }{6}} \right)} = 4 \times \sqrt {9 + 16 + 24 \times \frac{{\sqrt 3 }}{2}}$
    $= 4 \times \sqrt {25 + 12\sqrt 3 } = 4 \times \sqrt {45.78} = 27.08\;m{s^{ – 2}}$

    इसलिए, परिणामी एस.एच.एम का अधिकतम त्वरण 27.08 ms-2 है।

    Incorrect

    Maximum acceleration of the resulting S.H.M. is
    ${a_{max}} = A{\omega ^2} = {\left( 2 \right)^2}\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$

    Where $\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$ is the Amplitude of resultant motion, when the resultant of the two motions is S.H.M with same angular frequency.
    ${A_1} = 3,\;{A_2} = 4$
    ${a_{max}} = {\left( 2 \right)^2}\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$
    $= \left( 4 \right) \times \sqrt {{3^2} + {4^2} + 2\left( 3 \right)\left( 4 \right)\cos \left( {\frac{\pi }{6}} \right)} = 4 \times \sqrt {9 + 16 + 24 \times \frac{{\sqrt 3 }}{2}}$
    $= 4 \times \sqrt {25 + 12\sqrt 3 } = 4 \times \sqrt {45.78} = 27.08\;m{s^{ – 2}}$
    Therefore, Maximum acceleration of the resulting S.H.M. is 27.08 ms -2.

    एस.एच.एम के त्वरण का अधिकतम परिणाम:
    ${a_{max}} = A{\omega ^2} = {\left( 2 \right)^2}\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$

    जब दो गति का परिणाम समान कोणीय आवृति वाला एस.एच.एम है तो $\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$ परिणामी गति का शीर्ष है,
    ${A_1} = 3,\;{A_2} = 4$
    ${a_{max}} = {\left( 2 \right)^2}\sqrt {A_1^2 + A_2^2 + 2{A_1}{A_2}cos\left( {\frac{\pi }{6}} \right)}$
    $= \left( 4 \right) \times \sqrt {{3^2} + {4^2} + 2\left( 3 \right)\left( 4 \right)\cos \left( {\frac{\pi }{6}} \right)} = 4 \times \sqrt {9 + 16 + 24 \times \frac{{\sqrt 3 }}{2}}$
    $= 4 \times \sqrt {25 + 12\sqrt 3 } = 4 \times \sqrt {45.78} = 27.08\;m{s^{ – 2}}$

    इसलिए, परिणामी एस.एच.एम का अधिकतम त्वरण 27.08 ms-2 है।

  7. Question 7 of 10
    7. Question

    The transfer of heat across a medium from a source of higher temperature to a source of lower temperature is known as
    अधिकतम तापमान के एक स्रोत से न्यूनतम तापमान वाले स्रोत तक एक माध्यम में ऊष्मा का स्थानांतरण क्या कहलाता है?

    Correct

    There are total three methods of transfer of heat across a medium mainly: Conduction, Convection and radiation.

    According to law of convection, the transfer of heat across a medium from a source of higher temperature to a source of lower temperature is known as convection.

    मुख्यतः एक माध्यम से ऊष्मा के स्थानांतरण की तीन विधियां हैं: संचालन, संवहन, रेडिएशन।

    संवहन सिद्धांत के अनुसार अधिकतम तापमान के एक स्रोत से न्यूनतम तापमान वाले स्रोत तक एक माध्यम में ऊष्मा का स्थानांतरण संवहन कहलाता है।

    Incorrect

    There are total three methods of transfer of heat across a medium mainly: Conduction, Convection and radiation.

    According to law of convection, the transfer of heat across a medium from a source of higher temperature to a source of lower temperature is known as convection.

    मुख्यतः एक माध्यम से ऊष्मा के स्थानांतरण की तीन विधियां हैं: संचालन, संवहन, रेडिएशन।

    संवहन सिद्धांत के अनुसार अधिकतम तापमान के एक स्रोत से न्यूनतम तापमान वाले स्रोत तक एक माध्यम में ऊष्मा का स्थानांतरण संवहन कहलाता है।

  8. Question 8 of 10
    8. Question

    According to Max well distribution of velocities:

    मैक्सवेल के वेगों के वितरण के अनुसार क्या होता है?

    Correct

    If we draw Maxwell’s curve between number of particles and velocity, we can see that the curve first rises from zero to a maxima then again reaches zero.

    According to Maxwell distribution of velocities, a very small fraction of the molecules have either very high or very low velocities. Major fraction has the velocity close to the average velocity. It is known as probable velocity.

    यदि हम कणों और वेगों की संख्या के बीच मैक्सवेल का वक्र बनाते हैं, तो हम देख सकते हैं कि वक्र सबसे पहले शून्य से अधिकतम तक बढ़ता है और फिर शून्य पर पहुंच जाता है।

    मैक्सवेल के वेगों के वितरण के अनुसार, अणु के एक छोटे से अंश का वेग या तो बहुत अधिक या बहुत कम होता है। बड़े भिन्न का वेग औसत वेग के करीब होता है। इसे संभावित गति के रूप में जाना जाता है।

    Incorrect

    If we draw Maxwell’s curve between number of particles and velocity, we can see that the curve first rises from zero to a maxima then again reaches zero.

    According to Maxwell distribution of velocities, a very small fraction of the molecules have either very high or very low velocities. Major fraction has the velocity close to the average velocity. It is known as probable velocity.

    यदि हम कणों और वेगों की संख्या के बीच मैक्सवेल का वक्र बनाते हैं, तो हम देख सकते हैं कि वक्र सबसे पहले शून्य से अधिकतम तक बढ़ता है और फिर शून्य पर पहुंच जाता है।

    मैक्सवेल के वेगों के वितरण के अनुसार, अणु के एक छोटे से अंश का वेग या तो बहुत अधिक या बहुत कम होता है। बड़े भिन्न का वेग औसत वेग के करीब होता है। इसे संभावित गति के रूप में जाना जाता है।

  9. Question 9 of 10
    9. Question

    Which among the following laws gives the mutual electric forces between multiple charges?

    निम्न में से कौन सा सिद्धांत बहुल आवेशों के बीच के अन्योन्य विद्युत बल को दर्शाता है?

    Correct

    Coulomb’s law states that the mutual electric force between two charges q1 and q2 separated by r distance can be given by

    $S = \frac{{k{q_1}{q_2}}}{{{r^2}}}\;$

    If we want to calculate mutual electric forces between multiple charges we have to apply superposition principle along with coulomb’s law.

    कूलम्ब का सिद्धांत दर्शाता है कि r दूरी वाले दो चार्ज q1 और q2 के अन्योन्य विद्युत बल को निम्न तरीके से दर्शाया जा सकता है।

    $S = \frac{{k{q_1}{q_2}}}{{{r^2}}}\;$

    यदि हम कई आवेशों के बीच पारस्परिक विद्युत बल की गणना करना चाहते हैं तो हमें कूलम्ब के सिद्धांत के साथ अधिशेष सिद्धांत लागू करना होगा।

    Incorrect

    Coulomb’s law states that the mutual electric force between two charges q1 and q2 separated by r distance can be given by

    $S = \frac{{k{q_1}{q_2}}}{{{r^2}}}\;$

    If we want to calculate mutual electric forces between multiple charges we have to apply superposition principle along with coulomb’s law.

    कूलम्ब का सिद्धांत दर्शाता है कि r दूरी वाले दो चार्ज q1 और q2 के अन्योन्य विद्युत बल को निम्न तरीके से दर्शाया जा सकता है।

    $S = \frac{{k{q_1}{q_2}}}{{{r^2}}}\;$

    यदि हम कई आवेशों के बीच पारस्परिक विद्युत बल की गणना करना चाहते हैं तो हमें कूलम्ब के सिद्धांत के साथ अधिशेष सिद्धांत लागू करना होगा।

  10. Question 10 of 10
    10. Question

    The magnitude of the induced dipole moment p is directly proportional to the external electric field E. Therefore p α E or p = α E, where α is the constant of proportionality and is called ________.​
    प्रेरित द्विध्रुव आघूर्ण p का परिमाण बाहरी विद्युत क्षेत्र E के समानुपाती होता है। इसलिए p α E या p = α E, जहाँ α समरूपता का स्थिरांक है और इसे ________ कहा जाता है।​

    Correct

    If a non – polar dielectric is placed in an electric field, the centre of charges gets displaced. The molecules are then said to be polarized and are called induced dipoles. They acquire induced dipole moment p in the direction of electric field. The alignment of the dipole moments of the permanent or induced dipoles in the direction of applied electric field is called polarisation or electric polarisation. The magnitude of the induced dipole moment p is directly proportional to the external electric field E.

    Therefore, p ∝ E or p = α E, where α is the constant of proportionality and is called molecular polarisability.

    यदि एक गैर – ध्रुवीय द्विध्रुव आघूर्ण को विद्युतीय क्षेत्र में रखा जाता है, तो आवेशों का केंद्र विस्थापित हो जाता है। तो कहा जाता है कि अणुओं ध्रुवीकृत हैं और इन्हें प्रेरित द्विध्रुव आघूर्ण कहा जाता है।

    वे विद्युत क्षेत्र की दिशा में प्रेरित द्विध्रुव आघूर्ण p प्राप्त करते हैं।

    लागू किये गए विद्युत क्षेत्र की दिशा में स्थायी या प्रेरित द्विध्रुव के द्विध्रुव आघूर्ण के संरेखण को ध्रुवीकरण या विद्युत ध्रुवीकरण कहा जाता है। प्रेरित द्विध्रुव आघूर्ण p का परिमाण बाहरी विद्युत क्षेत्र E के समानुपाती होता है।

    इसलिए, p α E या p = α E, जहाँ α अनुपात का स्थिरांक है और इसे आणविक ध्रुवीयता कहा जाता है।

    Incorrect

    If a non – polar dielectric is placed in an electric field, the centre of charges gets displaced. The molecules are then said to be polarized and are called induced dipoles. They acquire induced dipole moment p in the direction of electric field. The alignment of the dipole moments of the permanent or induced dipoles in the direction of applied electric field is called polarisation or electric polarisation. The magnitude of the induced dipole moment p is directly proportional to the external electric field E.

    Therefore, p ∝ E or p = α E, where α is the constant of proportionality and is called molecular polarisability.

    यदि एक गैर – ध्रुवीय द्विध्रुव आघूर्ण को विद्युतीय क्षेत्र में रखा जाता है, तो आवेशों का केंद्र विस्थापित हो जाता है। तो कहा जाता है कि अणुओं ध्रुवीकृत हैं और इन्हें प्रेरित द्विध्रुव आघूर्ण कहा जाता है।

    वे विद्युत क्षेत्र की दिशा में प्रेरित द्विध्रुव आघूर्ण p प्राप्त करते हैं।

    लागू किये गए विद्युत क्षेत्र की दिशा में स्थायी या प्रेरित द्विध्रुव के द्विध्रुव आघूर्ण के संरेखण को ध्रुवीकरण या विद्युत ध्रुवीकरण कहा जाता है। प्रेरित द्विध्रुव आघूर्ण p का परिमाण बाहरी विद्युत क्षेत्र E के समानुपाती होता है।

    इसलिए, p α E या p = α E, जहाँ α अनुपात का स्थिरांक है और इसे आणविक ध्रुवीयता कहा जाता है।

Leaderboard: Physics Quiz : 1 April 2020

maximum of 10 points
Pos. Name Entered on Points Result
Table is loading
No data available

हम डेली नए परीक्षा उपयोगी Questions अपलोड करते हैं, इसलिए आप सभी से यही अनुरोध है कि आप हमारे Notification prompt को सब्सक्राइब कर लें ताकि आपको हमारे अपडेट विधिवत रूप से मिलते रहें |

Please join Our Telegram Channel

Click to Join

प्रिय छात्रो, अगर आपका कोई भी सवाल हो तो Comment Box मे आप हमे Comment करके बता सकते हो हम आपको आपके सवालो का सही जवाब जरुर देंगे आप अपनी तरफ से सुजाव भी दे सकते हैं और आप अपने दोस्तों को Whatsapp, Facebook, Twitter के जरिये शेयर कीजिए ताकि और भी Students को ज्ञान मिल पाए, धन्यवाद्!

 

5 thoughts on “Physics Airforce X Group Navy SSR AA Questions | 02 April 2020”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *